Karva Chauth Katha in Hindi, Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi

Happy Karva Chauth: Karwa Chauth is going to take place this year on 19th October 2016. Here you will find Karva Chauth Katha in Hindi and Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi. Most of the Indian ladies take fast on this day for their husband long life. Karwa Chauth is all about the fast for their husband. We wish you all a very happy karwa chauth 2016.

Karva Chauth Katha

Karva Chauth is a one-day festival celebrated by Hindu women in many countries in which married women fast from sunrise to moonrise for the safety and longevity of their husbands. Source: Wikipedia

This day is one of the auspicious days for all women who take fast. In the evening, they listen karva chauth vrat katha and do pray to god for their long life. At last, when the moon appears, they do “Arti” of their husband & break their fast to drink water.

Best Karwa Chauth Gifts for Wife and Husband Collection

Karva Chauth Katha in Hindi

Karva Chauth Katha in Hindi

Karva Chauth Katha in Hindi photo

Karva Chauth Katha in Hindi photo

Chauth Mata ki Katha in Hindi

Chauth Mata ki Katha in Hindi

Karva Chauth Vrat Katha in Hindi

महिलाओं के अखंड सौभाग्य का प्रतीक करवा चौथ व्रत की कथा कुछ इस प्रकार है- एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। एक बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को सेठानी सहित उसकी सातों बहुएं और उसकी बेटी ने भी करवा चौथ का व्रत रखा। रात्रि के समय जब साहूकार के सभी लड़के भोजन करने बैठे तो उन्होंने अपनी बहन से भी भोजन कर लेने को कहा। इस पर बहन ने कहा- भाई, अभी चांद नहीं निकला है। चांद के निकलने पर उसे अर्घ्य देकर ही मैं आज भोजन करूंगी।


साहूकार के बेटे अपनी बहन से बहुत प्रेम करते थे, उन्हें अपनी बहन का भूख से व्याकुल चेहरा देख बेहद दुख हुआ। साहूकार के बेटे नगर के बाहर चले गए और वहां एक पेड़ पर चढ़ कर अग्नि जला दी। घर वापस आकर उन्होंने अपनी बहन से कहा- देखो बहन, चांद निकल आया है। अब तुम उन्हें अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करो। साहूकार की बेटी ने अपनी भाभियों से कहा- देखो, चांद निकल आया है, तुम लोग भी अर्घ्य देकर भोजन कर लो। ननद की बात सुनकर भाभियों ने कहा- बहन अभी चांद नहीं निकला है, तुम्हारे भाई धोखे से अग्नि जलाकर उसके प्रकाश को चांद के रूप में तुम्हें दिखा रहे हैं।

साहूकार की बेटी को जब अपने किए हुए दोषों का पता लगा तो उसे बहुत पश्चाताप हुआ। उसने गणेश जी से क्षमा प्रार्थना की और फिर से विधि-विधान पूर्वक चतुर्थी का व्रत शुरू कर दिया। उसने उपस्थित सभी लोगों का श्रद्धानुसार आदर किया और तदुपरांत उनसे आशीर्वाद ग्रहण किया।

Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi

Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi

Bahula Chauth Vrat Katha in Hindi

Bahula Chauth Vrat Katha in Hindi

Sakat Chauth Vrat Katha in Hindi

Sakat Chauth Vrat Katha in Hindi

Happy Karva Chauth Wishes Messages Quotes SMS in English Hindi Tamil Marathi

We hope you like our collection of Happy Karva Chauth katha in hindi or Karva Chauth Vrat Katha if yes then do share online on Facebook, Twitter, Google Plus, Instagram, and Whatsapp.

Stay in touch with us for latest updates & comment below to share your thoughts with us.

2 Comments

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

                                                                                                                                                                                                                         Privacy Policy